26 January kyu Manaya Jata Hai? | 26 जनवरी का इतिहास

दोस्तों जैसा की आप सभी जानते हैं की 26 जनवरी (गणतंत्र दिवस) को हमारे देश में national holiday होता हैं यह बात तो सब जानते हैं और छुट्टी के नाम पर सब बहुत खुश भी होते हैं पर क्या आप जानते हैं की आखिर 26 january kyu manaya jata hai और इसके पीछे क्या कारन हैं? और 26 जनवरी को ही गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है?

तो चलिए आज हम आपको इन सब सवालों के जवाब इस आर्टिकल में देने वाले हैं इसे अंत तक जरूर पढ़े।

26 January का इतिहास

इतिहास की बात करें तो इस दिन हमारे देश का संविधान (Constitution Of India) लागू हुआ था । 26 जनवरी 1930 को हमारे देश में पूर्ण स्वार्जय घोसित किया गया था। लेकिन जैसा कि आप सभी को पता है कि 15 Aug 1947 को हमारा देश हजारों देशभक्तों के बलिदान के बाद अंग्रेजों की गुलामी से आज़ाद हुआ था।

इसके बाद 26 जनवरी 1950 को डॉ० भीमराव अम्बेडकर, जवाहरलाल नेहरू, डॉ राजेन्द्र प्रसाद, सरदार वल्लभ भाई पटेल, मौलाना अबुल कलाम आजाद आदि के सहयोग से देश का संबिधान बना और देश में भारतीय साशन और कानून व्यवस्था को लागू किया गया और भारत एक संप्रभु लोकतांत्रिक गणराज्य घोषित हुआ।

और तब से  हमारे देश में 26 जनवरी को एक ऐतिहासिक रूप में मनाया जाता है और इस दिन राजधानी दिल्ली में राजपथ पर एक मुख्या आयोजन होता है और उसमे भारत की सांस्कृतिक झलक के साथ साथ हमारी सैन्य शक्ति और विरासत की झलक भी पेश की जाती है।

गणतंत्र दिवस समारोह

जैसा की अपने पीछे पढ़ा की गणतंत्र दिवस को बड़े ही धूम धाम हर्ष और उलाश से मनाया जाता हैं। इस कार्यक्रम में भाग लेना आपने आप में ही एक बहुत बड़े गर्व की बात मन जाता हैं।

26 january kyu manaya jata hai, republic day kyu manaya jata hai

इस समारोह में हमारे देश के राष्ट्रपति द्वारा राष्ट्रीय ध्वज को फेहराया जाता है और उसे सलामी दी जाती है और साथ ही साथ राष्ट्र गान गया जाता है।

इसके बाद इस अवसर पर हर साल एक भव्य समारोह होता है जिसमे हमारे देश की सेना और विद्यार्थी परेड करते हैं और देश की एक झलक देते हैं। इसमें भारतीय सेना की विभिन्न रेजिमेंट्स, वायुसेना, नौसेना सभी भाग लेते हैं।

और साथ ही बहुत साड़ी विभीन झांकियां निकाली जाती हैं जो हमारे देश के विभिन्न संस्कृति को प्रस्तुत करती हैं जिसे देखना अपने आप में ही एक बहुत ही मोहक होता हैं।

संविधान दिवस कब मनाया जाता है?

भारत गणराज्य का संविधान 26 नवम्बर 1949 को बन कर त्यार हुआ था।  इसके लिए एक संविधान समिति बनायीं गयी थी जिसमे जिसके अध्यक्ष डॉ॰ भीमराव आंबेडकर थे।  1948 में पहली बार संविधान की रूपरेखा पेश की गयी थी और 1949 me संशोधनों के साथ नवम्बर को मंजूरी मिली थी।

हमारा संविधान दुनिआ का सबसे बड़ा संविधान है इसमें कुल 395 अनुछेद और 22 भाग है, इसे लिखने में 2 साल 11 महीने और 18 दिन का समय लगा था। इसमें कुल 234 पेज हैं जिसका वजन 13 किलो है। भारत में 26 जनवरी 1950 से संविधान अमल में लाया गया।

Also Read: Pradhan Mantri National Health ID Card Yojna

डॉ॰ भीमराव आंबेडकर ने इसमें एक अहम् भूमिका निभाई इसलिए उनके के 125वें जयंती वर्ष के रूप में 26 नवम्बर 2015 से 26 नवम्बर को संविधान दिवस मनाया गया।

भारतीय संविधान 26 जनवरी 1950 को क्यों लागू किया गया?

संविधान को 26 जनवरी को पारित करने के पीछे एक ही अहम् मकसद था वो ये की 26 जनवरी 1930 को कांग्रेस ने पहला स्वाधीनता दिवस मनाया था, और उसी दिन हमारे देश में पूर्ण स्वार्जय घोषित किया गया था जिसके चलते उस दिन को याद रखते हुए संविधान को 26 नवम्बर 1949 के बजाय 26 जनवरी 1950 को लागू किया गया।

संविधान क्यों बनाया गया?

हर देश को चलाने के लिए कुछ नियम और कानून जरुरी होते हैं। हमारा देश अंग्रेजो के नियमो पर चल रहा था और इसीलिए आज़ादी के बाद उसे अपने खुद के नियम कानून की आवशयकता थी ताकि कोई भी बहार का व्यक्ति फिर से हमारे देश के साथ कोई खिलवाड़ न कर सके।
और देश में एक कानून व्यवस्थता के रहने से देश बहुत ही शांतिपूर्ण चलता हैं इसीलिए संविधान की जरुरत पड़ी और इस संविधान को बने गया।
जिसमे हर काम के लिए कुछ नियम और कानून बनाये गए हैं इन्ही को संविधान कहा जाता है।

भारतीय संविधान के भाग:

भारतीय संविधान 22 भागों में विभजित है तथा इसमे 395 अनुच्छेद एवं 12 अनुसूचियां हैं।

भागविषयअनुच्छेद
भाग 1संघ और उसके क्षेत्र(अनुच्छेद 1-4)
भाग 2नागरिकता(अनुच्छेद 5-11)
भाग 3मूलभूत अधिकार(अनुच्छेद 12 – 35)
भाग 4राज्य के नीति निदेशक तत्व(अनुच्छेद 36 – 51)
भाग 4Aमूल कर्तव्य(अनुच्छेद 51A)
भाग 5संघ(अनुच्छेद 52-151)
भाग 6राज्य(अनुच्छेद 152 -237)
भाग 7संविधान (सातवाँ संशोधन) अधिनियम, 1956 द्वारा निरसित(अनु़चछेद 238)
भाग 8संघ राज्य क्षेत्र(अनुच्छेद 239-242)
भाग 9पंचायत(अनुच्छेद 243- 243O)
भाग 9Aनगरपालिकाएं(अनुच्छेद 243P – 243ZG)
भाग 10अनुसूचित और जनजाति क्षेत्र(अनुच्छेद 244 – 244A)
भाग 11संघ और राज्यों के बीच संबंध(अनुच्छेद 245 – 263)
भाग 12वित्त, सम्पत्ति, संविदाएं और वाद(अनुच्छेद 264 -300A)
भाग 13भारत के राज्य क्षेत्र के भीतर व्यापार, वाणिज्य और समागम(अनुच्छेद 301 – 307)
भाग 14संघ और राज्यों के अधीन सेवाएं(अनुच्छेद 308 -323)
भाग 14Aअधिकरण(अनुच्छेद 323A – 323B)
भाग 15निर्वाचन(अनुच्छेद 324 -329A)
भाग 16कुछ वर्गों के लिए विशेष उपबंध सम्बन्ध(अनुच्छेद 330- 342)
भाग 17राजभाषा(अनुच्छेद 343- 351)
भाग 18आपात उपबन्ध(अनुच्छेद 352 – 360)
भाग 19प्रकीर्ण(अनुच्छेद 361 -367)
भाग 20संविधान के संशोधनअनुच्छेद
भाग 21अस्थाई संक्रमणकालीन और विशेष उपबन्ध(अनुच्छेद 369 – 392)
भाग 22संक्षिप्त नाम, प्रारम्भ, हिन्दी में प्राधिकृत पाठ और निरसन(अनुच्छेद 393 – 395)
Source: Wikipedia

FINAL NOTE:

उम्मीद हैं दोस्तों ये आर्टिकल पढ़ने के बाद 26 January kyu Manaya Jata Hai और इसे kisne बनाया और इसमें क्या हैं ? इन सब सवालों के जवाब आपको मिल गए होंगे।

हमारे इस पोस्ट से जुड़े कोई भी सवाल या सुझाव हो तो हमे कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।  हमारे साथ जुड़ने के लिए धन्यवाद !

Happy Republic Day happy republic day

Leave a Comment